Meri udaan mera aasman

हार नही है जीत नही है जीवन तो बस एक संघर्ष है ........

40 Posts

781 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14347 postid : 775393

माँ की रोटी से खुशबु आती है ...

Posted On: 22 Aug, 2014 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज लगभग 4-5 महीनो बाद जागरण जंक्शन पर आना हुआ है, कुछ व्यस्तता के कारण और कुछ इसलिए कि मैं अपना जागरण जंक्शन का पासवर्ड भूल गयी थी, आज बहुत कोशिश करने के बाद नया पासवर्ड मिल पाया है ! हमेशा की तरह मन की भावनाओ को कविता का नाम दे रही हूँ, कविता अच्छी है या बुरी नही मालूम हां इतना जरुर पता है कि भावनाए सच्ची हैं ….!


माँ जो रोटी बनाती है
उससे खुशबु आती है
कल ही तो मैंने
महसूस की थी वो खुशबु
जब कहाँ था मम्मा से
कि एक ही सही मगर
मेरे लिए रोटी आप ही बना दो,
मुझे महसूस जो करना था,
उसी महक को,
जो कभी-कभी जब मैं
आँख बंद करती हूँ
और देखती हूँ
माँ को रोटी बनाते
तो मेरे मन को महका देती है …!!

माँ जब हँसती है
तो लगता है जैसे हंस रहा हो
रसोई का हर एक बर्तन…
माँ जब उदास होती है
तो लगता है जैसे
मायूसी सी छा गयी हो
पुरे घर में ….
माँ जब बीमार पड़ती है
तो लगता है जैसे
घर का हर एक कौना
हर एक वस्तु, हर एक सदस्य
बीमार हो गया हो ….
माँ ….
अगर तुम चाहती हो कि
घर तुम्हारा हमेशा महकता रहे
तो तुम कभी उदास न हुआ करो …
माँ ….
अगर तुम चाहती हो कि
घर के सभी सदस्य स्वस्थ रहे,
तो तुम कभी बीमार न हुआ करो …
माँ ………..
अगर तुम चाहती हो कि
हम सभी खुश रहें हमेशा
तो तुम हमेशा अपना ख्याल रखा करो ….!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sanjeevtrivedi के द्वारा
August 24, 2014

सोनम जी बहुत ही सुन्दर भावनाए….

pkdubey के द्वारा
August 23, 2014

PRTYEK SHABD ME BHUT BHAVANATMAKTAA HAI AADARNEEYAA.

jlsingh के द्वारा
August 22, 2014

अगर तुम चाहती हो कि घर के सभी सदस्य स्वस्थ रहे, तो तुम कभी बीमार न हुआ करो … माँ ……….. अगर तुम चाहती हो कि हम सभी खुश रहें हमेशा तो तुम हमेशा अपना ख्याल रखा करो ….!! betee agar ma ka kahana mantee hai to ma ko bhi betee ka kahana manana hee padega…bimar padane ke liye bhi to samay cahahiye..


topic of the week



latest from jagran